बरसात की रात में बजी घंटी Barsat ki Raat me Ghanti Baji

Barsat ki Raat me Ghanti Baji

ghost nightमित्रो मेरा नाम रामप्रसाद यादव है मै बिहार के भागलपुर के एक छोटे से कस्बे का रहने वाला हु |  जो मै घटना आपको बताने जा रहा हु वो मेरे साथ आज से 12 साल पहले घटित हुई जब मै आठवी कक्षा में था |जैसा कि आप जानते है कि भारत में बिजली एक बड़ी समस्या है | हमारे गाँव में रोज़ कभी भी बीजली गुल हो जाती थी | हम गाँव के समृद्ध परिवारों में से एक था और सबसे पहला पक्का घर भी हमारा ही था | मेरे पिताजी पटवारी है और इस वजह से कोई तकलीफ नहीं थी | लेकिन फिर भी गाँव में तो मुलभुत सुविधाओं की कमी होती है |

यह घटना जुलाई  1999 के  की है | उस रात बड़े जोरो से बरसात Barsat हो रही थी | मै हॉल में बैठकर होमवर्क कर रहा था और मेरे पिताजी टीवी देख रहे थे | मेरी माँ और दादी अलग कमरे में सो रही थी | अचानक बिजली गुल हो गयी और अँधेरा छा गया |तभी दरवाज़े के घंटी बजी और मेरे पिताजी ने दरवाज़ा खोला तो वहा कोई भी नहीं था | मेरे पिताजी ने 2-3 महीने पहले ही वो घंटी लगवाई थी हालंकि वो ज्यादा काम नही आती थी |

थोड़ी देर तक कुछ नहीं हुआ तभी मेरी माँ बाहर आयी और पूछा कि घन्टी किसने बजाई |तभी मेरी माँ ने कहा कि बिजली तो घर में है ही नहीं !  तो फिर ये घंटी कैसे बजी |मैं बचपन में बड़ा डरपोक था और ये सुनकर मै कांपने लग गया कि बिना बिजली घंटी कैसे बजी |मेरे पिताजी टोर्च लेकर बाहर गये और घर के चारो और देखा और उन्हें कुछ नहीं दिखा | उसके आधे घंटे में बिजली आ गयी | लेकिन उस Barsat बरसात की रात में बिजली की गडगडाहट से ज्यादा डर बिना बिजली की घंटी को सोचकर लग रहा था |इस घटना को कभी जिन्दगी में नहीं भूल पाया और आज भी रात को जब बिजली चली जाती है तो मै डर जाता हु | असल में क्या था वो मै आज भी पता नहीं लगा सका |

4 Comments

  1. zahid October 14, 2013
  2. Barry Ann August 20, 2014
    • Indian Ghost Stories August 20, 2014
  3. Abdul Hamid Inamdar June 14, 2016

Leave a Reply