इंसानों का खून पीकर प्यास बुझाने वाली एक डायन Daayan की सच्ची कहानी | Real Story of Daayan in Hindi

Real Story of Daayan in Hindi

dayan ghostकुछ घटनाएं  ऐसी होती है जो लोगो ने सुनी तो हैं, लेकिन  इसकी असलियत को महसूस शायद कुछ लोगों ने किया । बाते सब करते है लेकिन असलियत का सामना करने के लिए कोई भी  तैयार नहीं। ऐसी ही एक कहानी आज हम आपको बताने जा रहे है वो है डायन और चुडैलों की। Daayan डायन और चुडैलों को आपने अधिकतर फिल्मों में देखा होगा, लेकिन यहां हम आपको एक ऐसी सच्चाई की जानकारी दे रहे हैं जिसे अभी तक आप लोगो ने कभी नहीं सुना होगा।

छत्तीसगढ़ राज्य के बिलासपुर ग्राम के निकट जांजगीर इलाके में आज भी खून की प्यासी डायनों Daayan का बसेरा है। स्थानीय लोगो का मानना है कि यहां रात में गुजरने वाले राहगीरों को डायन पहले तो अपने वश में करती है और बाद में उस इंसान का खून पीकर स्वय को अमर रखने का प्रयास करती हैं।कहा जाता है कि यह इलाका डायन का है। यहां इंसान का कदम रखना खतरे से खाली नहीं है। और अगर आप कैसे भी गए तो किसी तरह की चूक आपके लिए काफी नुकसानदेह साबित हो सकती है। अगर आपको यकीन न हो तो यहां पर अभिशप्त पेड़ों में कील गाड़ कर खुद देख लीजिए, यकीनन आप लोगो का मौत से सामना हो जाएगा। आप लोगो को भले ही यह अंधविश्वास लगे, मगर इस भूतिया गांव का तो यही दस्तूर है। इस भूतिया गांव को पूरे सूबे में अभिशप्त माना जाता है। यहां एक-दो नहीं, बल्कि सारे इलाके में डायनों का बसेरा जमा है।

Read : Witch on a tree

बिलासपुर के निकट इस छोटे से इलाके जांजगीर में डायनों Daayan की अब पूरी टोली विधमान है। ऐसा माना जाता है कि पहले यहां एक डायन Daayan रहती थी, लेकिन डायन ने गांव की ही कुछ लड़कियों की आत्मा को वश में करके उनको अपने साथ मिला लिया। आज वही लड़कियां इन डायनों के साथ मिलकर खुद को अमर रखने की कोशिश करती है।ये गांव वही है वो जगह जहां वास्तविकता में यहा पुरुषों के रात को निकलने पर प्रतिबंध है। कब किस जगह पर डायन Daayan उन्हें अपने वश में कर लेगी कोई नहीं जानता।

loading...

Read : ऑटो में चुड़ैल के साथ

अभी तक यहा पर कुल 38 ऐसे मामले हैं जिनमें पुरुष लापता हो गए , लेकिन उनका अभी तक कोई पता नहीं लगा। यही माना जाता है कि डायन उन पुरुषो को निगल गई।जांजगीर में पेड़ों को काटने पर भी प्रतिबंध है। यहां पेड़ों के उपर डायनों  Daayan के रहने की बात बताई जाती है। एक बार एक पेड़ काटने पर गांव के एक इन्सान की मौत हो गई थी। तब से ही माना जाता है कि डायन Daayan का पेड़ काटने पर ही उसकी मौत हुई।

Read: चुडैलो और डायनो की कहानी

यहां पर एक टूटी हवेली नूमा छोटी सी कोटरी है। जिसमें कोई भी नहीं आता जाता। माना जाता है कि इस अंधेरी कोठरी में जो भी गया वो वापस नहीं लौटा। 7 लोगों की मौत की गवाह इस भूतिया कोठरी को यहां के प्रशासन ने भी सील किया हुआ है।डायनों को अपने वश में करने के लिए यहा कई तांत्रिकों ने अपनी पूरी शक्ति लगा दी। लेकिन इस बीच एक दो तांत्रिकों को भी मौत का सामना करना पड़ा। जिसके बाद तांत्रिक भी यहां की डायनों को अपने वश में करने से घबराने लगे।

Read: छत्तीसगढ़ का खौफ – टोनही चुड़ैल का रहस्य

कहा जाता है कि गांव में हर अमवस्या और पूर्णिमा की रात को कोई नहीं रहता। हालांकि यह काफी पुरानी बात है। अब लोग अपने घरों को अच्छे से बंद कर वहीं रहते हैं।गांव के कुछ लोगों ने यह अनुभव किया है कि अक्सर रास्ते में चलते वक्त उन्हें अजीबोगरीब आवाजें सुनाई देती है, लेकिन पीछे मुड़ने पर कोई नहीं होता। गांव के सुधाकर नाम के व्यक्ति ने तो अपनी बाइक पर एक डायन को लिफ्ट तक दी थी। काफी लंबा रास्ता तय करने के बाद उसे अहसास हुआ कि पीछे कोई बैठा ही नहीं था|

जांजगीर के लोगो का मानना है कि यहां कई साल पहले एक खूबसूरत महिला के साथ गांव के कुछ शराबी लोगों ने बलात्कार किया उसे बंदी बनाकर रख दिया और बाद में उसकी उस महिला की बेरहमी से हत्या कर दी। इसके बाद वही डायन Daayan  बनकर यहाँ अपना बदला पूरा करती है।

loading...
Loading...

3 Comments

  1. nandu February 10, 2014
  2. Aman February 15, 2014

Leave a Reply