बिजली के झटके देने वाली हसीन आत्मा का आतंक Real Ghost Story of Mumbai

Real Ghost Story of Mumbaiमेरा नाम अरविंद है, और मै मुंबई का रहने वाला हूँ। इस से ज्यादा अपने बारे में मै कुछ और डिटेल्स नहीं देना चाहूँगा, क्यूँ की में नहीं चाहता की अपने साथ हुई वहशियाना घटना की हकीकत बताने के बाद में दुनियाँ के सामने मज़ाक बन कर रह जाऊँ। यह उन दिनों की बात है जब मेरा कॉलेज का का तीसरा साल शुरू हुआ था। खूबसूरत हसीना के रूप में दिल दहला देने वाली क्रूर आत्मा का आतंक मेंने उस दिन झेला था। सच कहूँ तो में उस दिन मौत के मुह में से वापिस आया था।

Must Read: फार्म हाउस पर हुआ दादाजी के साए से सामना 

मै जुहू पर बैठा नारियल पानी पी रहा था दो पहर के 12 बजे थे। सामने कुछ ही दूर पर एक सुंदर सी लड़की मेरे सामने घूरे जा रही थी। मेंने भी शर्म को कुए में डाल कर हाथ से बाय कर दिया और स्माइल दे दी। मुजे लगा की आसपास कोई भीड़ नहीं है मामला बिगड़ा , तो आराम से नौ दो ग्यारह हो जाऊंगा। तभी मेरे पसीने छूट गए, क्यूँ की वह हीरोइन टाइप लड़की चल कर मेरे पास आने गली।

मुझे लगा आज तो पक्का सेंडल पड़ेगा, या उसकी पाँच उँगलियाँ मेरे गाल पे छपेंगी। पर गज़ब हो गया उस लड़की ने आ कर मुजसे हाथ मिलाया, और सीधा मुजसे बोली की चलो कहीं और चलें? नारियल पानी वाला उस हूर परी को मेरे जेसे शर्मीले रोमियों के साथ देख कर almost कोमा में जाने वाला था। और मेरी भी सिट्टीपिटी गुल थी, मै आधापीया नारियल फेंक कर उसके साथ लट्टू की तरह चल दिया।

मेंने फट से बाइक स्टार्ट की, वह भी लपक कर पीछे वाली सीट पर, मुजसे सट कर बैठ गयी। और हम चल दिये…

रास्ते में मैंने उसको पूछा की “कहाँ चलेंगे?” उसने कहा “कब्रिस्तान ले लो।”

में बोला अच्छा “और वहाँ क्या करेंगे?” उसने कहा “तेरा खून पीना है मुजे… “।

उसकी बहकी बहकी बातें सुन कर मेरी थोड़ी थोड़ी फटने ज़रूर लगी थी फिर भी मेंने पूछा तुम्हारा नाम क्या है वह बोली … “आफत”। मेरा लगातार सवाल पूछना उसे पसंद नहीं आ रहा था। उसने बाइक रुकवा दी। और बाइक से उतर कर बोली की “अगर तुमने रास्ते में आगे एक भी और सवाल किया तो में तुम्हारे गले से ताजा खून चूसने लगूँगी… और तुम्हारा मांस भी नोंच लूँगी।”

Must Read: छत पर बच्चे और औरत के भूत ने फैलाई दहशत

एक खूबसूरत लड़की के ऐसे बर्ताव से मै सदमे में था। मुजे लगा यह शायद सनकी होगी या पक्का इसमे कुछ आत्मा वातमा का साया है। उसने जहां बताया वहाँ मेंने बाइक लेली और उसके उतरते ही मेंने उसको कहा ” अच्छा चलो मै जाता हूँ मुझे कुछ काम याद आ गया ” मेरे जाने की बात सुनकर वह पूरी तरह पलट गयी और हंसते हंसते बोली की “अरे तुम तो डर गए…? में तो मस्ती कर रही थी आओ अंदर आओ यहाँ अंदर सिर्फ मेरे फादर की कब्र पर मुजे थोड़ा समय बिताना है फिर चले जाएंगे। तुम मुजे वापिस जुहू छोड़ देना और चले जाना “।

अब emotional टच दे कर उसने कवर तो कर लिया, पर मेरी पूरी तरह हालत पतली हो गयी थी। हिम्मत कर के में उसके साथ कब्रिस्तान में घुस ही गया।कब्रिस्तान के अंदर अजीब सान्नाटा था। वहाँ पहुचते ही उसने पैड की छाँव में खड़े हो कर अपना रूप बदला। उस लड़की ने अपने बाल बिखरा के खोल डाले। और दुपट्टा पेड़ की डाल पर लटका दिया। और उसी पैड पर उल्टी लटक गयी, और डायनों की तरह हंसने लगी। में तो पगला गया… और उधर से गेट की और भागा… गेट पर पहुचा तो देखता हु वह लड़की बिखरे बाल और लाल आँखों के साथ मेरे सामने खड़ी है…

मै काँपने और गिड़गिड़ानें लगा। पर वह मेरे सामने से नहीं हटी। उसने अजीब विकराल आवाज में कहा कि “बहुत जवानी चड़ी है ना…  आज तेरी सारी गर्मी उतार दूँगी नालायक ” | मै साइड से भागने लगा तो उसने मेरी टांग पकड़ ली और मुजे जमीन पर गिरा दिया। फिर उसने मुझे ऐसी जगह मुक्का मारा की में बता नहीं सकता… मुझे  मुक्के का दर्द कम हुआ था, पर वहाँ एक ज़ोर दार जटका लगा था। जेसे किसी ने मुझे बिजली के नंगे तार पर घोडा पलंग बैठा दिया हो। उसके बाद में पागलों की तरह चिल्लाने लगा और बेहोश हो गया।

Must Read: हॉस्टल से प्रेम ,जो मरने के बाद भी उसे खीच लाया

जब होश में आया तो खुद को कब्रिस्तान में नहीं जुहू चौपाटी की रेत पर पड़ा पाया। और मेरी बाइक भी वहीं थी।

मेरे कुछ दोस्त बताते हैं की वहाँ एक लड़की की आत्मा भटकती है। वह लड़की बेहद खूबसूरत होने के कारण बहुत सारे लड़के उसके पीछे पड़ कर उसे तंग किया करते थे। उस लड़की को कुछ बदमशों ने रुसवा कर के मार दिया था। और वहीं उसकी लाश फेंक दी थी तब से उसकी आत्मा यहा आने जाने वाले मनचले लडको को बाइक से रुकवाकर उनको प्रताड़ित करती है | जब मुझे इस बात का पता चला तो उस दिन से शाम को अकेले में कभी जुहू चौपाटी नही आया और दिन भी जुहू चौपाटी गुजरते वक्त मुझे वो घटना याद आ जाती है |

loading...
Loading...