अमेरिका की एक ऐसी जेल , जहा केवल कैदियों की आत्माए है कैद

Moundsville Penitentiary – A Haunted Prison

Moundsville Penitentiaryअमेरिका के पश्चिमी विर्जिनिया राज्य के Moundsville में एक ऐसी जेल है जो कई साल पहले कैदियों का गढ़ हुआ करती थी लेकिन 1876 में शुरू हुयी इस जेल को 1995 में बंद कर दिया गया | आखिर क्या ऐसा कारण था जिसके कारण इस मशहूर जेल को ताला लगाना पड़ा आइये आपको इस जेल के इतिहास और यहाँ होने वाले प्रेतबाधित घटनाओ के बारे में विस्तार से बताते है |

1863 में अमेरिका , अमेरिकन सिविल वार के दौरा से गुजर रहा था तब वहा के उच्च अधिकारियो ने सरकार से सरकार से वेस्ट वर्जिनिया में एक एक स्टेट जेल बनाने की इजाजत माँगी लेकिन उनकी मांग को नामंजूर कर लिया | उधर दुसरी छोटी छोटी जेलों में सिविल वार के दौरान कैदियों की संख्या दिन भर बढती जा रही थी और वो जेले इतनी कमजोर थी कि उन जेलों से 1865 में नौ कैदी भाग गये | अब इसके बाद अखबारों में ये बात छप गयी जीसके कारण सरकार को मजबूरी वश विधानसभा में इस जेल के लिए जमीन देने को प्रस्ताव को मानना पड़ा जिसकी वजह से 1866 में वर्जिनिया के Moundsville इलाके में एक स्टेट जेल बनाने का निर्णय लिया गया |

10 एकड़ जमने पर 363,061 डॉलर कीमत से इस जेल का निर्माण करवाया गया | इस जेल के दक्षिणी भाग में 224 कोठरिया और उत्तरी भाग में रसोईघर ,होस्पिटल जैसी मुलभुत सेवाओ के लिए जगह बनाई गयी | एक चार मंजिला टावर का निर्माण यहा के कैदियों की देखरेख के लिए किया गया | जब इस जेल की शुरुवात हुयी तो उसमे 250 कैदियों को इस जेल में रखा गया जिसमे से कई कैदियों ने खुद इस जेल के निर्माण में सहयोग दिया था | ये तो रही इस जेल के निर्माण की बात लेकिन यहाँ पर किस तरह कैदियों पर अत्याचार और सजाये मौत दी जाती थी जिसके कारण उनकी आत्माए आज भी यहाँ भटकती है उसके बारे में विस्तार से जाने |

loading...

1899 से लेकर 1959 तक यहा पर 94 लोगो को मौत की सजा दी गयी जिसमे 1949 तक फांसी ही एकमात्र मौत का तरीका आजमाया जाता था | 1931 तक यहा पर फांसी की सजा पाने वाले कैदियों की फांसी को जनता को नही दिखाया जाता था | 19 जून 1931 जो पहली बार किसी कैदी की फांसी जनता के सामने दी गयी थी | इस जेल में फांसी पाने वाला अंतिम कैदी बड पेटरसन था जिसकी लाश को उसके परिवार के लोगो ने ले जाने से मना कर दिया था |

1951 से इस जेल में मौत की सजा का ऐसा क्रूर तरीका अपनाया गया जिसमे आदमी अपनी मौत में तडप तडप कर मरता था | 1951 में यहा पर बिजली के झटको से कैदियों को मौत की सजा सुनाई जाती थी जिसके लिए इस जेल में एक कुर्सी पर उस कैदी को बिठाया जाता था जिसके मौत तामील की गयी उसके बाद उसको बिजली के हाई वोल्टेज झटके देकर उसको मार दिया जाता था | इन कुर्सियों पर नौ लोगो को मौत के घाट उतार दिया गया जिसके कारण ऐसी अजीबोगरीब मौत की वजह से उन कैदियों की आत्माए आज भी उनके हत्यारों की तलाश में उस जेल में भटक रही है | 1965 में यहा पर मौत का सिलसिला बंद कर दिया गया |

1965 के बाद यहाँ पर किसी को मौत की सजा तो नही दी गयी लेकिन कैदियों की संख्या बढती जा रही थी | 1960 के दशक के यहा पर सबसे ज्यादा 2000 कैदी थे  और 1986 के दंगो में भी यहा पर काफी कैदी आ गयी थे | धीरे धीरे दुसरे जेलों में उच्च सुरक्षा के कारण इस जेल में कैदी कम होते गये जो 1995 तक घटकर केवल 600 रह गये | 1986 से इस जेल में कैदियों पर होने वाले अत्याचारों का खुलासा होने के बाद कोर्ट ने इस जेल को सील कर दिया उअर नौ साल बाद 1995 में इस जेल को पुरी तरह बंद कर दिया गया |

इस जेल के बंद होने का दूसरा कारण स्थानीय लोग बताते है कि क्रूरता से यहाँ पर जिन जिन लोगो को मौत की सजा सुनाई गयी उनकी आत्माए इस जेल में भटकती रहती है | 1995 के बाद ऐसी भुतहा घटनाओ के चलते यहाँ पर भुतिया फिल्मो की शूटिंग होना शूर हो गयी जिसके कारण यहाँ पर कई टीवी सीरीज और फिल्मे इस जेल में फिल्माई जा चुकी है | यहाँ पर फिल्मो में काम करने वाले कई कलाकरों को भी प्रेतबाधित घटनाओं का सामना करना पड़ा था लेकिन भुतहा फिल्म बनाने के चक्कर के यहाँ फ़िल्मकार फिल्म बनाने से नही मानते है | यहा पर प्रेतबाधित घटनाओ से मौत के मामले तो सामने नही आये है लेकिन इस जगह को Haunted Places in United States और Haunted Prison in World में शामिल कर लिया गया जिसको आप कई ब्लॉग पर इस जेल Moundsville Penitentiary में होने वाली प्रेतबाधित घटनाओ के बारे में पढ़ सकते है |

loading...
Loading...

Leave a Reply