ज़मीन मे दफन कंकाल का आतंक | Jameen Me Dafan Kankal Ka Aatank

Loading...

Jameen Me Dafan Kankal Ka Aatankमेरा नाम नील नथवानी है। और मे पुना में रहता हूँ। मै एक स्टूडेंट हूँ। मेरे पापा RTO ऑफिस में कर्मचारी है। अपने पापा की एकलौती सन्तान होने की वजह से वह मुझे काफी लाड़ प्यार करते हैं। मेरी हर ज़रूरत पूरी भी करते हैं। कुछ समय पहले हमनें अपना पुराना मकान बैच कर city से थोड़ा दूर एक प्लॉट खरीदा था। मेरे पापा नें उसी पर एक मकान तैयार कराया था। अभी हम उस मकान में रहने गए ही थे की प्रेत आत्मा और भूतों नें हमारा जीना हराम करना शुरू कर दिया।

एक दिन की बात है, जब मै दोपहर में किताब पढ़ रहा था तो मेरे बैड रूम की ज़मीन पर कुछ आवाज़ें आने लगी,,, और मुझे ऐसा लगा की पीछे से कोई मेरे बाल खींच रहा है। फिर थोड़ी देर में ऐसा लगा की, जैसे की ज़मीन के अंदर से कोई खुदाई कर रहा हो। वह आवाज़ इतनी भयानक थी की मुझे बहुत डर महेसूस हुआ। मैंने फौरन अपनी माँ को वहाँ बुलाया।

हम दोनों नें वह डरावनी आवाज़ें सुनी। तभी अचानक किचन से कुछ आवाज़ आई,,, मैंने माँ को पूछा की तुम नें कुछ गैस पर रखा है? माँ नें कहा की कुकर मै दाल पक रही है। मै दौड़ कर किचन में गया तो मेरी रूह काँप गयी,,, कुकर हवा में था और गैस बंद था। यह खौफनाक नज़ारा देख कर मेरी चीख निकल गयी। माँ जैसे ही दौड़ कर मेरे पास आई तो,,, दाल से भरा कुकर धड़ाम से अपने आप ज़मीन पर गिर पड़ा। मै और मेरी माँ यह सब पारलौकिक घटनाये देख कर सकते में आ गए। दो पहर होने तक मै और माँ मकान के बाहर गार्डन में ही बैठे रहे। तभी मेरे पापा घर लौट आए।

हम दोनों नें घर पर घटी पूरी घटना उन्हे बता दी। पहले तो पापा माने नहीं पर जब उन्होने गिरा हुआ कुकर देखा और एक दो बार ज़मीन से आने वाली भयानक आवाज़ें सुनी तो उन्हे भी विश्वास हो गया की हमारे घर में भूत प्रेत का डेरा है। उस रात खौफ के साये में हम सब सो तो गए पर रात के तीन बझते ही ज़मीन से आवाज़े आना शुरू हो गया।

loading...

पापा माँ और में तीनों मेरे कमरे में वह आवाज़े सुन नें लगे। अभी अचानक हमारे घर के गार्डन में लंबी सी परछाई दिखी। पापा फौरन दौड़ कर गार्डन में गए। पापा के घर से बाहर जाते ही वह परछाई एक जटके में हमारे घर के अंदर आ घुसी और हमारे पानी के मटके में सिमट कर अंदर चली गयी। यह सब फिल्मी लगता है पर जब रियल में यह सब घट रहा था तब हमारी जान निकल रही थी। मै, पापा और माँ उस पानी के मटके के पास गए तो हमे उस मटके में से किसी के हसने की आवाज़ आने लगी, और जब पापा नें मटके का ढक्कन हटाया तो अंदर का पानी उस तरह हिल रहा था जैसे की अभी अभी उसमें किसी नें पत्थर मारा हो।

अब हम तीनों घर के हॉल में आ कर बैठ गए। तभी अचानक बाथरूम के पानी के नल अपने आप खूल गए। थोड़ी ही देर में हॉल की ज़मीन के नीचे से से भी तेज़ तेज़ आवाज़ें आने लगी। अब मेरे पापा के सब्र का बांध टूट रहा था। और उन्हे हम सब की जान की फिक्र भी थी। उन्होने रात में ही पड़ौसीयों को जगा दिया। और सारी हकीकत बताई। हमारे एक पड़ौसी नें तो यहाँ तक कहा की आप के पुराने ज़मीन मालिक को यह पता था की इस ज़मीन में भूत-प्रेत का वास है, तभी तो उसने यह प्लॉट इतने सस्ते दामों में आप को बैच दिया। फिर एक पड़ौसी नें यह सुझाव दिया की आप ज़मीन खुदवा कर देख लो की अंदर क्या बला है,,, शायद उस की शुद्धि होने से सारे प्रोब्लेम सोल्व हो जाए।

नया मकान खुदवाने के लिए पापा का दिल तो नहीं किया पर, यह मामला खतरनाक था इस लिए पापा नें अगले ही दिन तीन मज़दूर बुला लिए और पूरे घर की ज़मीन टेस्टिंग करा कर खुदवाने का फैसला लिया। पारलौकिक गतिविधियों की जांच करता टीम नें दो जगह बताई जहां पर काफी तेज़ सिग्नल आ रहे थे। पापा नें फौरन उन जगहों पर गहरी खुदाई कराई। आप यकीन नहीं करेंगे,,, हमें उस ज़मीन से दो इन्सानी कंकाल मिले। हमनें फौरन पुलिस को बुला लिया। पुलिस नें उन अंजान कंकालों को अपनें कब्ज़े में लिया, प्लॉट के मालिक को उसी दिन पूछ-ताछ के लिए थाने ले गए।

खैर उस दिन के बाद हमने अपना घर repair तो करा लिया। पर आज भी यह बात एक रहस्य है की वह किसके कंकाल हैं। और उस ज़मीन के नीचे कैसे आयें होंगे। भगवान का शुक्र है उस दिन के बाद (कंकाल निकल जाने के बाद) हमारे घर में कभी भी, कोई पारलौकिक घटना नज़र नहीं आई है। पर दिल में यह खयाल हमेशा आता रहता है की वह लोग कोन होंगे जिनहे मार कर उसके हत्यारे में उस प्लॉट के नीचे दफनाया गया होगा।

Loading...

One Response

  1. Ashim patra August 2, 2017

Leave a Reply