Bhooli Bhatiyari जहा भटकती है एक तडपती रानी की आत्मा

Bhooli Bhatiyari – A Haunted Place in Delhi

Bhooli Bhatiyari - A Haunted Place in Delhiमित्रो हमने दिल्ली के कई Haunted Places के बारे में आपको बताया है जिसमे से Delhi Cant को सबसे ज्यादा Haunted Place माना गया है क्योंकि यहा पर लोगो को Paranormal Activities देखने को मिली | इसके अलावा दिल्ली का Malcha Mahal आज भी लोगो के लिए रहस्य बना हुआ है | इसी प्रकार दिल्ली के करोल बाग़ में एक ऐसा महल है जहा पर आज भी रात को एक तडपती हुयी रानी की आत्मा भटकती है | कौन सी है ये जगह और यहा पर कौनसी ऐसी घटना हुयी , आइये इसके बारे में विस्तार से जाने |

दिल्ली का करोल बाग़ यहा का सबसे व्यस्त बाजार है जिसमे कुछ ऐसे राज दफन है जिसके बारे में कम ही लोगो को पता है | करोल बाग़ में बग्गा लिंक से एक रोड एक वीरान जंगल की ओर जाती है जहा ना कोई दरवाजा है | यहा पर केवल आपको एक बोर्ड पर ये लिखा मिलेगा कि सूर्यास्त के बाद इस वीरान जगह पर आने की पाबंदी है | इस जगह पर कोई गार्ड नही है और ऐसा कहा जाता है कोई भी गार्ड यहा एक रात से ज्यादा रुक नही पाता है | ये एक एतेहासिक धरोहर होने के बावजूद भी वीरान क्यों है इसके पीछे एक कहानी है जो हम आप लोगो को बताना चाहते है |

इस जगह का नाम है Bhooli Bhatiyari और यहा पर बने एक जर्जर किले को Bhooli Bhatiyari ka Mahal कहते है | इस जगह 14 वी सदी में फीरोज शाह तुगलक ने अपने शिकारगाह के रूप में बनवाई थी | जिस तरह Malcha Mahal भी तुगलक की देन है जहा कोई नही जाता है उसी प्रकार Bhooli Bhatiyari ka Mahal में रात को कोई जाना नही चाहता है | यहा पर कीसी जमाने में एक विशाल गेट हुआ करता था जो अब मलबे में दब गया है | इस महल में एक विशाल अंगना है जिसके चारो तरफ कमरे है जहा पर शिकार करने वाले राजपरिवार के लोग रहा करते थे | ये सोचना बड़ा मुश्किल है कि तुग्लको ने इस जगह पर इतना विशाल शिकारगाह क्यों बनवाया था |

loading...

अब आप सोच रहे होंगे कि इस जगह का नाम Bhooli Bhatiyari कैसे पड़ा है और इस जगह का क्या राज है आइये आपको बताते है | इस जगह के नाम के बारे में तीन अवधारणाये है | पहली मान्यता ये है इस जगह का नाम तुगलक वंश के सूफी संत बल-अली-बक्थियारी के नाम पर रखा गया जिसे बाद में नाम को तोड़ मरोड़कर Bhooli Bhatiyari कर दिया गया | दुसरी मान्यता यह है की राजस्थान की एक जनजातीय लडकी Bhatiyarin रास्ता भूलते हुए इस जगह पर आ गयी जिसके नाम पर इस जगह का नाम Bhooli Bhatiyari हो गया था जिसका मतलब रास्ता भूलती हुयी Bhatiyarin इस जगह पर आयी थी |

तीसरी मान्यता सबसे प्रचलित और चौकाने वाली है कि इस किले में तुगलक वंश के बाद एक राजा ने अपनी शिकारगाह बना लिया था क्योंकि इसे ये जगह बहुत पसंद आयी थी | उस राजा को अपनी रानी से बहुत प्यार था लेकिन एक बार राजा ने अपनी रानी को खुद से वफा करते देख लिया | राजा के गुस्से की सीमा नही रही और उसने उस रानी को इस महल में जिन्दगी पर भटकने के लिए छोड़ दिया | उस रानी ने अकेल इस जंगल में दम तोड़ दिया और उसकी लाश का कभी पता नही चला | उसकी लाश को कोई जानवर खा गया या कोई ओर कारण था किसी को पता नही लेकिन उस रानी की आत्मा आज भी रात को इस महल में अपने कातिल पति  की मौत का बदला लेने के लिए तडप रही है इसलिए रात को इस जगह पर कोई नही जाता है |

इस घटना के बाद कई राजाओ ने इस महल को अपना शिकार गाह बनाने की कोशिश की लेकिन उस रानी की आत्मा ने इस जगह को हमेशा के लिए Bhooli Bhatiyari बना दिया जिसके कारण इस महल में आने के बाद आदमी भटक जाता था और भटकते भटकते उसकी मौत हो जाती थी | इस जगह को कई सालो बाद सरकार ने सरंक्षित तो कर दिया लेकिन इसका रख रखाब नही कर पाए क्योंकि यहा पर लोगो को रात को Paranormal Activities का अनुभव हुआ है जिसके बाद आपने रात की कोई कहानी नही सूनी होगी | अब इस रानी की आत्मा में कितनी सच्चाई है ये तो आप इस जगह पर खुद रात बिताकर पता लगा सकते है |

loading...
Loading...

Leave a Reply